Home » Uncategorized » पंजाब-हरणा हायकोर्ट का अहमरिया निर्णय:सोशल मीडिया परिस्तान खाल की पोस्ट का अर्थ आंतकियां से जोडना नाही; एनआयएचा दावा खारिज कर जमानत दी

पंजाब-हरणा हायकोर्ट का अहमरिया निर्णय:सोशल मीडिया परिस्तान खाल की पोस्ट का अर्थ आंतकियां से जोडना नाही; एनआयएचा दावा खारिज कर जमानत दी

चंडीगढ़2 तास आधीकॉपी लिंकपंजाब हरियाणा हाईकोर्ट।किसी व्यक्ति सोशल मीडिया ग्रुप वर अगर खालिस्तानी लोक से पोस्ट करा तो त्याच्या आतंकी गिरोहाचे सदस्य बनतील का निर्णायक नाही माना जा सकता, ही टिप्पणी पंजाब हरियाणा हाईकोर्ट ने की. केश अमरजीत सिंह के सोशल मीडिया खालीस्थानी संघटनांकडून पोस्ट कोना था. संपूर्ण हाईकोर्ट ने एक व्यक्ति को जमानत दे…

पंजाब-हरणा हायकोर्ट का अहमरिया निर्णय:सोशल मीडिया परिस्तान खाल की पोस्ट का अर्थ आंतकियां से जोडना नाही;  एनआयएचा दावा खारिज कर जमानत दी

चंडीगढ़2 तास आधी

    • कॉपी लिंक
    हे आहे

    एनआयए ने साल २०१९ मध्ये तरनतारन मध्ये गैर इरादतन हत्या आणि एक्सप्लोसिव्ह एक्ट के अंतर्गत काही केसेसवर दर्ज केला होता. प्रथम एनआयए स्पेशल कोर्ट मोहाली मध्ये जमानत याचिका लगाई थी. एनआईए के स्पेशल जज ने ४ फेब्रुवारी २०२१ को अपनी जमानत खारिज कर दी. जो बाद था व्यक्ति हाईकोर्ट पोहोचला

    FIR में नहीं था नाम

    कधी कधी हाईकोर्ट ने पाया कि केस मध्ये सैनिक का नाव नाही एफआयआर मध्ये. एनआयएचा दावा होता की तपास केल्यावर समोर आल्या कि खालिस्तानी आतंकी ग्रुपचा साथीदार होता. त्याने आपली साथ दिली आहे. हीच तुमच्या सोबतीने ती बमची चाचणी देखील करते.

    मोबाइल नंबरही निर्णायक नाही

    हाईकोर्ट में सुनवाई के वक्त जस्टिस जीएस संधावालिया आणि जस्टिस विकास सूरी की डबल बेंच ने आपले म्हणणे कि मजबूत के फॅस सोशल मीडिया वर खालिस्तानी लोकांचे फोटो होते. , जो आपााधिक स्वभाव केथे. मेरे मोबाइल में गुरी खालिस्तानी और खालिस्तानी जिंदाबाद के नाम से 2 नंबर भी सेव थे। हाईकोर्ट ने टर्न हाईकोर्ट के खालिस्तानी गैंग से जोडलेले सांगणे का निर्णायक उत्तेजक नाही माना. वहीं बेंच ने कहा कि 2 वर्ष 4 से जेल महिन्यात आहे. सारखे मध्ये कामगार को नियमित जमानतचा लाभ मिळाला

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *